विश्व में हिंदी वैश्विक समाचार

लन्दन की सडकों पर था हिन्दी का जलवा

"ओलंपिक शुरू होने के एक दिन पहले लन्दन की सडकों पर हिन्दी का जलवा अपने चरम पर था. हिन्दी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन ने ओलंपिक की मशाल थामी और दौड़ पूरी की. इस दौरान वहां सैकड़ों प्रशंसकों ने हिन्दी फिल्मों के इस महानायक का खुले दिल से स्वागत किया कई जगह उनके फोटो खींचने वालों की कतार लग गई.क्या आपको नहीं लगता कि ये अमिताभ का नहीं बल्कि हिन्दी भाषा का सम्मान था जिसने उन्हें ओलम्पिक की मशाल थामने का मौक़ा दिया. "

london olympic torch amitabh bachchan southwark olympic organising commetee

२६ जुलाई को हिन्दी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन ने लन्दन की सड़क पर ओलम्पिक की मशाल थामी.लन्दन के साउथवार्क में जब अमिताभ ने मशाल ली तब सड़क के दोनों तरफ उनके प्रशंसकों की भीड़ लगी थी. कई लोग हिन्दी सिनेमा के इस महानायक को अपने कैमरों में कैद करने को बेताब थे.दर्शकों ने हाथ हिला हिलाकर उनका अभिवादन किया और अमिताभ ने भी अपने अंदाज में इसका जवाब दिया.
इस दौड के अंतिम चरण में अमिताभ के साथ संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून और भारतीय मूल के विश्वविख्यात उद्यमी लक्ष्मी मित्तल भी शामिल थे.इस दौड में शामिल होने के पहले उन्होंने कहा कि ओलंपिक

मशाल थामने के लिये आमंत्रित किया जाना उनके और देश के लिये गर्व का क्षण है.
दौड के बाद अमिताभ ने भारतीय मीडिया से हिन्दी में ही चर्चा की. हिन्दी प्रेमी अमिताभ को ये अवसर मिलना हिन्दी भाषी समाज के लिए भी उतने ही गर्व की बात है. अमिताभ को ये अवसर हिन्दी सिनेमा के महानायक के रूप में मिला है क्या आपको नहीं लगता कि उन्हें मिला ये अवसर वास्तव में हिन्दी को मिला सम्मान है. इस सम्मान के लिए आपको भी बधाई ....जय हिन्दी -जय भारत


 

 


प्रकाशन दिनांक : 30-07-2012
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH