हिंदी जगत

संगोष्ठी हिन्दी में तो निमंत्रण कौनसी भाषा में?

"हिन्दी भाषा में होने वाली या हिन्दी भाषा पर केंद्रित किसी राष्ट्रीय या अन्तराष्ट्रीय संगोष्ठी का आमंत्रण और विवरण कौनसी भाषा में होना चाहिए? ये प्रश्न मारीशस स्थित विश्व हिन्दी सचिवालय द्वारा अप्रैल में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी के निमंत्रण और विवरण पत्र को देखने के बाद उपजा है. "

WHS vishv hindi sachivaly poonam juneja

मारीशस स्थित विश्व हिन्दी सचिवालय २३ से २७ अप्रैल २०१२ तक सूचना तकनीक में हिन्दी के प्रयोग पर केंद्रित एक अन्तरराष्ट्रीय संगोष्ठी और कार्यशाला आयोजित करने जा रहा है. हिन्दी भाषी समाज को सूचना तकनीक से जोडने के लिए की जा रही ये पहल निश्चित रूप से स्वागत योग्य है. मेरा ये मानना है कि सूचना की  क्रान्ति को हिन्दी से जोडकर ही उसे भारत और विश्व में रहने वाले करोडों हिन्दी भाषियों के सामाजिक और आर्थिक विकास का माध्यम बनाया जा सकता है. इसलिए सचिवालय की ये पहल अभिनन्दन योग्य है.

इस कार्यशाला में विश्व भर में रहने वाले हिन्दी शिक्षक, विद्यार्थी और हिन्दी सेवियों से आवेदन आमंत्रित किए गए है.इस हेतु सचिवालय ने कई संस्थाओं को एक औपचारिक पत्र और इस आयोजन का विवरण पत्र भी भेजा है.इसे यहाँ देखा जा सकता है.

इस आमंत्रण-पत्र और इसके विवरण को देखकर मेरे मन में कुछ सवाल उठ रहे है.विश्व हिन्दी सचिवालय की हिन्दी के प्रति आत्मीयता और हिन्दी सेवा की भावना की सराहना करते हुए मै सिर्फ ये जानना चाहता हूँ कि ये संगोष्ठी और कार्यशाला हिन्दी में होगी या अंग्रेजी में ? यदि हिन्दी में होगी तो इसका आमंत्रण और विवरण अंग्रेजी में क्यों है ? हिन्दी में क्यौ नहीं है ? अत्यंत विनम्रतापूर्वक मै ये भी जानना चाहता हूँ कि विश्व हिन्दी सचिवालय का समस्त पत्राचार कौनसी भाषा में होता है? यदि कोई हिन्दी सेवी सज्जन मारीशस में रहता हो तो कृपया मेरी ये जिज्ञासा सचिवालय तक पहुंचाकर उनका समाधान करवाने की कृपा करें और हाँ इसे आलोचना की दृष्टि से नही  बल्कि ध्यान आकर्षण के एक प्रयास के रूप में देखा जाए. .
इस संगोष्ठी के बारे में और अधिक जानकारी हिन्दी होम पेज पर यहाँ देखी जा सकती है.

-सुबोध खंडेलवाल
 

 


प्रकाशन दिनांक : 19-03-2012
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH