हिंदी जगत

बिहार सरकार ने विख्यात साहित्यकार के नाम की एक सड़क

"बिहार सरकार ने औरंगाबाद जिले की एक महत्त्वपूर्ण सड़क का नामकरण हिन्दी के एक विख्यात साहित्यकार के नाम करने का फैसला किया है.अब ये सडक सुप्रसिद्ध साहित्यकार और सांसद स्वर्गीय शंकर दयाल सिंह जी के नाम पर जानी जाएगी. इस बारे में अधिसूचना भी जारी कर दी गई है. "

डॉ. शंकर दयाल सिंह, shankar dayal sinh, bihar governmeent, hindi shityakar,

२०१२ में शंकर दयालजी का अमृतोत्सव वर्ष मनाया जा रहा है. इस दौरान उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर देश में कई जगह साहित्यिक आयोजन किए जा रहे है. कार्यक्रमों का ये सिलसिला दिसंबर २०१२ तक चलता रहेगा. इसी दौरान बिहार सरकार ने उनके पैतृक गाँव से जुडी एक सड़क का नामकरण  उनके नाम पर कर दिया है. बिहार के औरंगाबाद जिले में देव मोड़ से भवानीपुर तक की पाँच किलोमीटर लम्बी सड़क अब डॉक्टर शंकर दयाल सिंह पथ के नाम से जानी जाएगी.

उल्लेखनीय है कि साहित्यकार होने के साथ-साथ शंकर दयालजी दोनों सदनों के सांसद भी रहे किन्तु उनके साहित्यिक व्यक्तित्व पर राजनेता कभी हावी नहीं हो पाया. मूलत: वे एक साहित्यकार थे और ताउम्र बने रहे.   राजनीति में होने वाले दाव पेंच उन्हें रास नहीं आते थे और उसकी तेज धूप से बचने के लिये वे अक्सर साहित्य का छाता तान लेते थे.  नीति विरुद्ध लगाने वाली किसी भी बात की बढ़िया उधेडने में उन्होंने कभी किसी दल या पक्ष का लिहाज नहीं किया. यदि सरकार की कोई  बात उन्हें नीति विरुद्ध लगती थी तो सत्ता पक्ष का सांसद होने के बाद भी वे संसद में सरकार को आड़े हाथ लेने से नहीं चूकते थे और यही नहीं पत्र-पत्रिकाओं में ऐसे तीखे लेख लिखते थे जिन्हें पढकर विरोधी-पक्ष खुश और सत्ता-पक्ष (कांग्रेस), जिसके वे स्वयं सांसद हुआ करते थे, नाखुश रहता था.


प्रकाशन दिनांक : 10-03-2012
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH