हिंदी जगत

न्यायमूर्ति काटजू की बात सुन फर्राटेदार हिन्दी में बोली जयललिता

"क्या आपने तमिलनाडू की मुख्यमंत्री जयललिता को कभी धाराप्रवाह हिन्दी में बोलते हुए सुना है ?? शायद नहीं सुना होगा. शायद आप ये जानते भी नहीं होंगे कि जयललिताजी हिन्दी जानती है.पिछले दिनों भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष और सर्वोच्च न्यालय के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू चेन्नई में जयललिता से मिले . बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि उन्हें लगता कि वे हिन्दी जानती है ये सुनने के बाद जयललिता ने फर्राटेदार हिन्दी में उनसे बात की. "

Learn Hindi, urges Katju,Markandey Katju, Hindi language, j.jaylalita,jaylalitha hindi in tamilnadu,

न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू का अपना एक अलग व्यक्तित्व है.वे सही को सही और गलत को गलत कहने का नैतिक साहस रखते है. पिछले दिनों तमिलनाडू की मख्यमंत्री जयललिता से एक मुलाक़ात के दौरान उन्होंने उनसे कहा कि तमिल भाषियों को हिन्दी भी सीखना चाहिए.

भाषा और साहित्य की गहरी समझ रखने वाले न्यायमूर्ति ने अपनी बात अत्यंत तर्कपूर्ण ढंग से रखी. उन्होंने जयललिता से कहा कि हिन्दी न जानने के कारण तमिलनाडू के कई लोगों को देश के दूसरे भागों में रहने वाले व्यक्तियों से संवाद स्थापित करने में काफी कठिनाई होती है.दक्षिण के दूसरे राज्य जहां के लोग हिन्दी समझते है उन्हें ये समस्या नहीं उठानी पड़ती. यदि तमिलनाडु के लोग हिन्दी सीखेंगे तो उन्हें देश के लोगों के साथ जुडने में आसानी होगी.  द हिन्दू से चर्चा में जस्टिस काटजू ने कहा कि इसके जवाब में सुश्री जयललिता ने कहा कि तमिलनाडू में लोग हिन्दी सीखते है. समस्या तब हुई जब १९६० में यहाँ के लोगो को जबरदस्ती हिन्दी सीखाने की बात आई तब लोगों ने इसके खिलाफ तीखी प्रतिक्रया व्यक्त की थी.

इस पर जस्टिस काटजू ने कहा कि वो ये मानते है कि लोकतंत्र में किसी भी तरह की जबरदस्ती के लिए कोई जगह नहीं है. दबाव बनाने की जगह कर लोगो को तर्कपूर्ण ढंग से समझाकर किसी बात के लिए तैयार किया जाना चाहिए.ये कहने के साथ-साथ उन्होंने ऐसा करके भी दिखा दिया.बातचीत के दौरान उन्होंने जयललिता से कहा कि उन्हें ऐसा लगता कि वे हिन्दी जानती है ये सुनकर अम्मा यानी  जयललिता मुस्कुराई और फिर फर्राटेदार हिन्दी में उनसे बात करने लगी.


प्रकाशन दिनांक : 01-03-2012
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH