हिंदी जगत

नेशनल बुक ट्रस्ट ने की नई पहल - विद्यार्थियों से कराया पुस्तकों का लोकार्पण

"आमतौर पर किताबों का विमोचन किसी बड़े आदमी से करवाया जाता है ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग कार्यक्रम में और किताब में रूचि ले सकें मगर नेशनल बुक ट्रस्ट ने पिछले दिनों लखनऊ में एक अनूठा और रचनात्मक प्रयोग किया.एनबीटी ने विज्ञान पर आधारित तीन पुस्तकों का विमोचन किसी बड़े आदमी से कराने की जगह कॉलेज के विद्यार्थियों से करवाया.एनबीटी की ये पहल निश्चित रूप से युवा पाठकों को किताबों से जोड़ेगी. "

नेशनल बुक ट्रस्ट, national book trust, india, panakj chaturvedi, science books, lucknow,

पुस्तक पढने की संस्कृति को प्रोत्साहित करने में जुटे नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया, विज्ञान के प्रसार के लिए समर्पित सामाजिक संस्था तस्लीम और विज्ञान प्रसार द्वारा लखनऊ में आयोजित विज्ञान लेखन कार्यशाला के दूसरे दिन विज्ञान पर केंद्रित तीन पुस्तकों का लोकार्पण हुआ. जीनोम यात्रा, इसरो की कहानी तथा  विज्ञान और आप नामक इन किताबों के विमोचन समारोह की खासियत ये थी कि इनका लोकार्पण किसी बड़े आदमी ने नहीं बल्कि कॉलेज के विद्यार्थियों ने किया.

लोकार्पण समारोह में जीनोम यात्रा की लेखिका सुश्री विनीता सिंघल के अलावा डॉ. अरविंद मिश्र, डॉ. देवेन्द्र मेवाड़ी और नेशनल बुक ट्रस्ट के सहायक संपादक श्री पंकज चतुर्वेदी भी उपस्थित थे.श्री चतुर्वेदी ने कहा इस लोकार्पण समारोह में जिन बच्चों ने भाग लिया है, वे इससे बहुत उत्साहित है.इस कार्यक्रम को अपनी स्मृति में संजोकर ये बच्चे खुद को सृजनात्मक कार्यों में लगा सकेंगे.ये विद्यार्थियों इन किताबों को पढकर इनपर अपनी टिप्पणियाँ एक ब्लॉग के रूप में देंगे, इससे इनके मन में लेखन के प्रति भी रूचि जगेगी.

इस अनूठे प्रयोग को लेकर हिन्दी होम पेज से चर्चा में नेशनल बुक ट्रस्ट के निदेशक श्री एम.ए. सिकंदर ने कहा कि युवाओं को पुस्तकों से जोडने के लिए एनबीटी रचनात्मक प्रयोग कर रही है. उन्होंने कहा कि इससे एक नया पाठक वर्ग उभर कर आएगा और समाज में रचनात्मक प्रवृत्तियों को प्रोत्साहन मिलेगा.

एनबीटी का ये प्रयास निश्चित रूप से स्वागत योग्य है.सरकार के नियंत्रण वाले संस्थानों में आमतौर पर इस तरह की रचनात्मक सोच देखने को नहीं मिलती. उम्मीद है कि  इसके बाद हिन्दी के दूसरे प्रकाशक भी इस तरह के रचनात्मक प्रयोग करने के लिए प्रेरित होंगे.  .

 


प्रकाशन दिनांक : 30-12-2011
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH