हिंदी जगत

माँरीशस सांस्कृतिक अकादमी के निदेशक प. राजेन्द्र अरुण की व्याख्यानमाला

"रामायण के अंतरराष्ट्रीय अध्येता और विद्वान तथा माँरीशस सांस्कृतिक अकादमी के निदेशक प. राजेन्द्र अरुण और अंतरराष्ट्रीय रामायण केन्द्र की उपाध्यक्ष डा.श्रीमती विनोद बाला अरुण १६ से १८ दिसंबर तक इंदौर में रामायण के प्रमुख पात्रों पर व्याख्यान देंगे. इस विशिष्ट वैचारिक कार्यक्रम का आयोजन श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति और सामाजिक संस्था प्रज्ञा –प्रवाह के संयुक्त तत्वावधान में किया जाएगा."

pandit raajendra arun, Dr. vinod bala arun, international ramayan centre, de.mukesh kod, shree madhyabharat hindi sahitya samiti,

प. अरुण को माँरीशस  में रामायण गुरु के नाम से जाना जाता है.वे तथा उनकी पत्नी डा. विनोद बाला अरुण, विश्व के कई देशों में रामकथा के माध्यम से जीवन को बदलने का सन्देश दे चुके है.उनकी खासियत ये है कि वे प्रवचन नहीं देते बल्कि आज के परिदृश्य में रामायण के पात्रों की इस तरह से व्याख्या करते है कि लोग उनका चरित्र अपने आचरण में उतार सके. उनके व्याख्यान युवाओं में भी  काफी लोकप्रिय है.

रवींद्र नाथ टैगोर मार्ग,इंदौर स्थित हिन्दी साहित्य समिति में १६ से १८ दिसंबर तक उनकी तीन दिवसीय व्याख्यानमाला आयोजित की जाएगी. इसके तहत १६ दिसंबर को श्री अरुणजी,  भरत के चरित्र पर १७ को डा श्रीमती अरुण, माँ जानकी पर तथा १८ को श्री अरुण श्री हनुमानजी पर व्याख्यान देंगे. इंदौर में ये पहला अवसर होगा जब रामायण के पात्रों का मनोवैज्ञानिक विश्लेषण रामकथा के माध्यम से किया जाएगा.

उल्लेखनीय है कि प. अरुण के अथक प्रयासों के चलते माँरीशस की सरकार ने संसद में एक अधिनियम पारित कर वहाँ अंतरराष्ट्रीय रामायण केन्द्र की स्थापना की है. किसी भी देश की सरकार द्वारा स्थापित ये विश्व की पहली संस्था है जो रामायण के माध्यम से सकारात्मक जीवन मूल्यों का प्रसार कर रही. उनकी पत्नी डा. श्रीमती विनोद बाला अरुण अंतरराष्ट्रीय रामायण केन्द्र की उपाध्यक्ष है वे विश्व हिन्दी सचिवालय की महासचिव भी रह चुकी है.


प्रकाशन दिनांक : 11-12-2011
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH