विश्व में हिंदी

हिन्दी की अन्तरराष्ट्रीय गोष्ठी में हुई हिन्दीहोमपेज की चर्चा

"नेशनल बुक ट्रस्ट और श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति द्वारा इंदौर में आयोजित पुस्तक मेले में हिन्दी की तीन पुस्तकों का लोकार्पण किया गया.इस अवसर पर हुई अन्तराष्ट्रीय हिन्दी संगोष्ठी में हिन्दीहोमपेज की भी खूब चर्चा हुई."

डॉ.tomoko kikuchi, hiroshima, japanai in hindi, pushpita awasthi

इंदौर में चल रहे राष्ट्रीय पुस्तक मेले के दौरान हिन्दी की तीन पुस्तकों का विमोचन किया गया. नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया द्वारा प्रकाशित सूरीनाम, हिरोशिमा का दर्द और नागालैंड की लोककथा का विमोचन जापान की हिन्दी विदुषी तोमोको किकुची, इंदौर के पत्र सूचना अधिकारी श्री मधुकर पंवार और समिति के प्रधानमंत्री श्री बसंत सिंह जौहरी ने किया.

उल्लेखनीय है कि हिरोशिमा का दर्द मूल रूप से जापानी भाषा में लिखी कविताओं की किताब है. इसका हिन्दी अनुवाद डा. तोमोको किकुची ने किया है. जबकि सूरीनाम के सांस्कृतिक परिदृश्य पर केंद्रित पुस्तक विख्यात लेखिका पुष्पिता अवस्थी ने लिखी है.

समिति  के सभाग्रह में हुई इस कार्यक्रम में हिन्दी के वैश्विक परिदृश्य पर एक संगोष्ठी भी हुई इस संगोष्ठी में वक्ताओं ने हिन्दी के वैश्विक रिसोर्स पोर्टल www.hindihomepage.com का  खास तौर पर उल्लेख किया.उन्होंने बताया कि ये पोर्टल पूरे विश्व में फैले करोड़ों हिन्दी के एक वैश्विक मंच की तरह विकसित हो रहा है जो भाषा के कारण उपजी डिजीटल खाई को पटाने का भी काम कर रहा है. इस पर विश्व की सभी प्रमुख हिदी संस्थाओं और संस्थानों को देखा जा सकता है.

विदेश में हिन्दी विषय पर हुई इस गोष्ठी की खबर यहाँ देखी जा सकती है.

 


प्रकाशन दिनांक : 13-11-2011
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH