विश्व में हिंदी

सूरीनाम को हिंदी दिवस का उपहार

"सूरीनाम के हिंदी प्रेमियों को इस हिंदी दिवस पर एक अनूठा उपहार मिला.हिन्दी भाषियों को ये सौगात यहाँ की राजधानी पारामारीबो में स्थित सूरीनाम सांस्कृतिक केंद्र के पुस्तकालय में हिंदी भाग के रूप में मिली. इस हिंदी भाग का औपचारिक उदघाटन भारत के राजदूत श्री कंवलजीत सिंह सोढ़ी और सूरीनाम सांस्कृतिक केंद्र की निदेशक श्रीमती नाडिया बेकर ने 5 अक्तूबर को किया. "

hindi section,,surinam cultural centre,paramaribo, nadia bekar, bhavna saxena, dr.narayan datt gangaram pande, bholanath narayan, janki prasad sinh, surinam hindi parishad,

सूरीनाम के लोग अब हिन्दी से और अधिक आत्मीयता से जुड सकेंगे. यहाँ के भारतीय दूतावास के प्रयासों के चलते सूरीनाम की साहित्यिक, सांस्कृतिक और बौद्धिक गतिविधियों के प्रमुख केंद्र सूरीनाम सांस्कृतिक केन्द्र में अब  हिन्दी का विशेष भाग खोला गया है.इस हिंदी भाग का औपचारिक उदघाटन भारत के राजदूत श्री कंवलजीत सिंह सोढ़ी और सूरीनाम सांस्कृतिक केंद्र की निदेशक श्रीमती नाडिया बेकर ने किया.

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्र की निदेशक श्रीमती नाडिया बेकर ने हिन्दी के इस भाग की स्थापना के लिए भारतीय राजदूतावास की सराहना की . उन्होंने कहा कि  इससे पुस्तकालय का विस्तार हुआ है जो पाठकों के लिए काफी उपयोगी साबित होगा.हिन्दी के इस विशेष खंड की जानकारी देते हुए राजदूतावास की हिंदी व संस्कृति अधिकारी श्रीमति भावना सक्सैना ने बताया कि यह पुस्तक संग्रह हिंदी के पाठकों के साथ-साथ हिंदी सीखने के इच्छुक लोगों के लिए भी काफी उपयोगी साबित होगा क्योंकि इसमें हिंदी सीखने के लिए कई पुस्तकें व सी॰डी॰ भी शामिल हैं.

कार्यक्रम में उपस्थित हिंदी के  विद्वान डॉ॰ नारायण दत्त गंगाराम पांडे जी ने कहा यहाँ हिंदी पुस्तकें उपलब्ध होना बहुत हर्ष की बात है.इसके लिए उन्होने केन्द्र को बधाई दी.इस अवसर पर सूरीनाम के हिंदी प्रेमी तथा पूर्व कृषि मंत्री श्री स्टैनले रघुबरसिंह, सूरीनाम हिंदी परिषद के अध्यक्ष श्री भोलानाथ नारायण, पूर्वाध्यक्ष श्री जानकी प्रसाद सिंह सहित कई  हिंदी प्रेमी उपस्थित थे.

योगदान : भावना सक्सैना
प्रकाशन दिनांक : 06-10-2011
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH