हिंदी जगत

हिंदी लिखना,पढना, बोलना और हिंदी में सोचना चाहते है यूके के भारतीय युवा

"कौन कहता है कि युवा वर्ग हिंदी नहीं सीखना चाहता ?? हो सकता है भारत में ऐसा हो,क्योंकि वो तो इंडिया बन चुका है परन्तु यू के भारतीय युवाओं में पूरा जोश देखा गया वे हिंदी बोलना, लिखना,पढना तो क्या हिंदी में सोचना भी चाहते हैं. "

Uk Kshtreey hindi sammelan, shikha varshney, hindi function, indian youth in uk, hindi in uk,

ये बात है इंग्लैण्ड की एक यूनिवर्सिटी में हुए हिंदी सम्मलेन की. २४ जून से २६ जून तक बर्मिघम की एस्टन यूनिवर्सिटी में कुछ स्थानीय संस्थाओं ने भारतीय उच्चायोग के सहयोग से तीन दिवसीय यू के क्षेत्रीय हिंदी सम्मलेन २०११ का आयोजन किया. इसमें भारत से डॉ.परमानंद पांचाल, डॉ. कृष्णदत्त पालीवाल के अलावा रूस, इजराइल, डेनमार्क, आदि से आए हिंदी के कई विद्वानों के साथ बहुत से स्थानीय साहित्यकार और पत्रकार भी मौजूद थे.

तीन दिनों तक चले इस सम्मलेन में कई विषयों पर चर्चा हुई. इस दौरान एक बात जो साफ़-साफ़ निकल कर सामने आई वह यह कि, कौन कहता है कि युवा वर्ग हिंदी नहीं सीखना चाहता ?? हो सकता है भारत में ऐसा हो,क्योंकि वो तो इंडिया बन चुका है परन्तु यू के भारतीय युवाओं में पूरा जोश देखा गया. वे हिंदी बोलना, लिखना,पढना और यहाँ तक कि हिंदी में सोचना भी चाहते हैं उन्होंने इस सम्मलेन में भी बढ- चढ़ कर हिस्सा लिया. उनके उत्साह को देखकर भारत से आये कुछ युवा प्रतिभागी तो ये कहते भी पाए गए कि भाई आप लोग कुछ ज्यादा ही भारतीय हो. हम तो यहाँ आपके साथ निभा ही नहीं पा रहे हैं.

साभार - स्पंदन

उक्त रिपोर्ट वरिष्ठ  पत्रकार सुश्री शिखा वार्ष्णेय के चिट्ठे स्पंदन से ली गई है. हिंदी, अंग्रेजी और रूसी भाषा पर सामान अधिकार रखने वाली शिखा ने इस सम्मलेन में हिंदी वेब पत्रकारिता पर एक आलेख पढ़ा था.   


प्रकाशन दिनांक : 03-07-2011
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH