संसाधन गीत,कविता,गज़ल

चीखना मना है..!

"कानपुर के युवा पत्रकार सुबोध श्रीवास्तव कवि भी है और लेखक भी. उनके काव्य संग्रह 'पीढ़ी का दर्द' से ली गई ये कविता शायद आपको भी पसंद आएगी. "

hindi kavita poem subodh shrivastav lucknow
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
तुम,
अपनी कमजोर पीठ पर 
पहाड़ सा बोझ ढोते रहो
मगर
उफ, बिलकुल न करना
मेरे दोस्त।
न ही सरक जाने पर 
बोझ के-
मेरे सहारे का इंतजार करना
तुम,
दर्द से छटपटाना
मगर
भूलकर भी कराहना मत
न ही गढ्डों के बीच झांकती 
अपनी आंखों को 
नमकीन पानी से नहलाना
मैं भी,
नहीं सहला पाऊंगा 
तुम्हारी पीठ
मुझे माफ करना।
और/ मेरे दोस्त
भूख लगने पर 
रोटी के लिए 
चिल्लाना भी मत,
शोर के बीच 
तुम्हारी-
मरियल आवाज
दम तोड़ देगी
तब, आक्रोश में 
अपने हाथ 
हवा में मत लहराना
क्योंकि-
तुम्हें झुंझलाता देख 
शायद मैं ही (?)
डपट दूं तुम्हें
मगर तब भी 
तुम चीखना मत
क्योंक- 
यह शहर
'अमन पसंद' लोगों का है
जिन्हें
शोर से सख्त नफरत है।
 
 
-सुबोध श्रीवास्तव,
 
योगदान : सुबोध श्रीवास्तव
प्रकाशन दिनांक : 17-06-2013
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
BOOK WRITER, POEM, POET, SUBODH