हिंदी जगत

भोपाल में हुआ भारत के दूसरे हिन्दी विश्वविद्यालय का शिलान्यास

"मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में आज भारत के दूसरे हिन्दी विश्वविद्यालय के भवन की नींव रखी गयी. भारत के राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने यहाँ मुगालिया कोट में अटल जी के नाम पर आराम्भित हिंदी विश्वविद्यालय के भवन का शिलान्यास किया.इस विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए उन्होंने मध्यप्रदेश सरकार की भरपूर सराहना की और उम्मीद जताई कि यह विश्वविद्यालय श्री बाजपेयी के महान महान आदर्शो पर चलकर हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं को बढ़ावा देगा."

atal bihari vajpeyi hindi university mugliya kot bhopal shivraj sinh chauhan pranav mukharji suresh pachori

इस गरिमामय समारोह में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान,राज्यपाल श्री रामनरेश यादव, लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष श्रीमती सुषमा स्वराज, मध्यप्रदेश के जनसंपर्क एवं शिक्षा मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा,केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री नारायण सामी, सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री कैलाश जोशी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुरेश पचौरी, मुख्य सचिव श्री आर परशुराम, विश्वविद्यालयों के कुलपति तथा विद्यार्थी उपस्थित थे.कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री मुखर्जी ने कहा कि श्री मुखर्जी ने कहा कि हिन्दी दुनिया के अन्य देशों में भी लोकप्रिय हो रही है. हिन्दी के माध्यम से तकनीकी विषयों की शिक्षा प्रदान करने की जरूरत है और मुझे उम्मीद है कि ये विश्व विद्यालय यही भूमिका निभाएगा.  
राज्यपाल श्री रामनरेश यादव ने कहा कि यह विश्वविद्यालय दुनिया में अपने ढंग का अनूठा होगा. ये दुनिया के श्रेष्ठतम विश्वविद्यालयों से आदान-प्रदान का संपर्क सूत्र जोड़ेगा.कार्यक्रम को मुख्यमंत्री श्री चौहान,श्रीमती स्वराज और श्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने भी संबोधित किया.
इस अवसर पर विश्वविद्यालय के सूचना पत्र 'अटल संवाद परिचय पत्र' का विमोचन किया गया. राज्यपाल ने एक प्रति राष्ट्रपति को भेंट की.इस अवसर पर कार्यक्रम स्थल पर श्री अटल बिहारी बाजपेयी के व्यक्तित्व पर केन्द्रित चित्र प्रदर्शनी लगायी गयी. मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस प्रदर्शनी का अवलोकन किया.


प्रकाशन दिनांक : 06-06-2013
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
this is a poem written by rajendra sinh fariyadi on water
higher education in hindi, atal bihari vajpeyi, hindi university, hindi teaching, bhopal, mohan lal chipa