हिंदी जगत

दुनिया के उपभोक्ता एक हो। अपने शोषण के खिलाफ - व्यास


 



दुनिया के उपभोक्ता एक हो। अपने शोषण के खिलाफ - व्यास


     जब से दुनिया में वस्तुएं उत्पादित होने लगी तब से ही ग्राहक या उपभोक्ता शब्द प्रचलित हो गया। एक जमाना था जब कहा जाता था उपभोक्ता बाजार का राजा है। इस विचारधारा का अर्थ यह था कि उपभोक्ता ही तय करता था कि बाजार में क्या चीज बिकेगी और क्या चीज नहीं बिकेगी। अर्थशास्त्र में पढ़ाया जाता था वस्तुओं की मांग से ही तय होता था कि कितनी वस्तुओं का उत्पादन हो और उसकी कीमत क्या हो। पर आज तो स्थितिया और परिस्थितियां बदल चुकी है। अब दुनिया का उपभोक्ता न तो बाजार का राजा रहा है और न ही उसके चाहने से वस्तुओं एवं सेवाओं का ही उत्पादन होता है। दुनिया का लगभग सात अरब उपभोक्ता अपनी खरीदने की ताकत को बचाये रखने के लिये अभिमन्यू की तरह युद्ध के मेदान में व्यापार एवं उद्योग के महारथियों से युद्ध कर रहा है। व्यापार व वाणिज्य के पक्ष में विश्व व्यापार संगठन प्रतिबद्ध होकर खड़ा है वह व्यापार व वाणिज्य के पक्ष में दुनिया की सरकारों को साम, दाम, दण्ड, भेद से प्रभावित कर रहा है परन्तु दुनिया का उपभोक्ता अनभिज्ञ, असंगठित, लूटा-पीटा किमकर्तव्य मुढ़ में खड़ा है। वह खुद नहीं ढ़ूढ पा रहा है कि उसकी बरबादी के कारण क्या है। जैसे-जैसे उपभोक्ताओं की सुरक्षा के लिये कानून बनाये जाते है वैसे-वैसे उपभोक्ता अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। आई.एस.आई. भारत में वस्तुओं का मानक (स्टेण्डर्ड) तय करता है वैसे-वैसे बाजार में घटिया, अप्रमाणिक, निम्न स्तरीय व नकली वस्तुएं बाजार में धडल्ले से बिकने के लिये आ जाती है। शासन और प्रशासन इन पर अंकुश नहीं लगा पा रहा है और न्यायपालिका भी ये निश्चित नहीं कर पा रही है कि जिन वस्तुओं के लिये अनिवार्य रूप से आई.एस.आई. प्रमाणन आवश्यक है फिर कैसे उपभोक्ताओं के जीवन, स्वास्थ्य एवं सम्पतियों को खतरे में डालने वाले उत्पाद एवं सेवाएं बिक रही है। आज यह भी चिन्तन एवं चिन्ता का विषय हो गया कि किस प्रकार एकाधिकारी पूंजीपति घराने दुनिया के बाजारों में जो वस्तु एवं सेवाएं चाह रहे है बिकने दे रहे है क्योंकि इन बहुराष्ट्रीय निगमो की ताकत इतनी ज्यादा हे कि वे दुनिया की विभिन्न सरकारों को अपनी शर्तो पर काम करने के लिये तैयार कर ही लेते है। यही निगम दुनिया में हथियार भी बनाते है, हथियारों को बेचने के लिये कृत्रिम रूप से मांग भी खड़ी करते है और हथियारों को बेचने के लिये अन्ततोगतवा युद्ध भी थोप देते है। ईराक पर पूंजीवादी अमेरिका का हमला मात्र दुनिया के पेट्रोलियम पदार्थो के उत्पादन, वितरण की शक्तियों को अपने हाथ में लेना था। अब वक्त आ गया है कि दुनिया का उपभोक्ता स्वयं तय करे कि पूंजीपतियों की राजसता जो दुनिया के विभिन्न देशों में चल रही है उसका खात्मा होगा की नहीं। ये निश्चित है यदि इसी प्रकार से पूंजीवादी, सामा्रज्यवादी शक्तिया आगामी दो वर्षो तक और कार्य करती रही तो दुनिया में 80 प्रतिशत उपभोक्ता अपने मानवाधिकारों से न केवल वंचित हो जायगा बल्कि यतीमो, फकीरो, भीखमंगों की तरह जीने को मजबुर हो जायगा। इसलिये आज के दिन हम तय करे कि दुनिया के उपभोक्ता क्यो नही अपने हक की लड़ाई लड़े और शोषण मुक्त, अन्याय मुक्त, समता युक्त समाज के निर्माण में अपनी भूमिका निभाये अन्यथा इतिहास आन्दोलनकारियों को भी माफ नहीं करेगा।


 


एड़वोकेट प्रहलाद राय व्यास


 

योगदान : Prahlad Rai Vyas
प्रकाशन दिनांक :
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
this is a poem written by rajendra sinh fariyadi on water
higher education in hindi, atal bihari vajpeyi, hindi university, hindi teaching, bhopal, mohan lal chipa