संसाधन हिंदी शिक्षक

वाशिंगटन में बसा एक भारतीय युवा नेट के माध्यम से सैकड़ो विदेशियों को सीखा रहा है हिन्दी

"उच्च शिक्षा पाने के बाद जो युवा हिन्दी बोलना पसंद नहीं करते उन्हें अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन में रहने वाले युवा सॉफ्टवेयर इंजीनियर आशुतोष अग्रवाल से मिलवाना चाहिए. हिन्दी भाषी युवाओं के लिए वो एक मिसाल है.सात समुन्दर पार रहकर आशुतोष इंटरनेट के माध्यम से सैकड़ों विदेशियों को और अनिवासी भारतीयों की अगली पीढ़ी को हिन्दी सीखा रहे है और वो भी बिना किसी अपेक्षा के. "

learn Hindi teacher hindi class lesson ashutosh agrawal हिन्दी टीचर Hindi University

आम तौर पर हिन्दी भाषी लोग सूचना तकनीक से दूर भागते है और जो हिन्दी भाषी सूचना तकनीक के विशेषज्ञ हो हो जाते है वो हिन्दी से दूर भागते है मगर आशुतोष ने इन दोनों बातों को झुठला दिया है.वो सूचना तकनीक को हिन्दी से जोडकर उसका उपयोग हिन्दी को बढ़ावा देने में कर रहे है.

ये प्रतिभाशाली युवा वाशिंगटन में रहकर इंटरनेट के माध्यम से सैकड़ो अहिन्दी भाषी और हिन्दी भाषियों को हिन्दी सीखा रहा है. आशुतोष की हिन्दी की क्लास इंटरनेट पर लगती है. उन्होंने हिन्दी सीखाने के लिए चालीस से भी ज्यादा वीडियो बनाकर यू- ट्यूब पर डाल दिए है. हिन्दी यूनिवर्सिटी नाम के उनके इस यू-ट्यूब चैनल पर फिलहाल पूरे विश्व से आठ सौ से भी ज्यादा लोग हिन्दी सीख रहे है.वे हिन्दी प्रेमियों के आग्रह पर पूर्व निर्धारित समय पर हिन्दी सीखाने के लिए निःशुल्क वेबिनार भी आयोजित करते है.

हिन्दी के प्रति भारत सरकार की अरुचि, हिन्दी के नाम पर चल रही संस्थाओं और संस्थानों की निष्क्रियता और अदूरदर्शिता तथा  हिन्दी भाषियों की उदासीनता के बाद भी यदि हिन्दी आगे बढ़ रही है तो उसका श्रेय आशुतोष जैसे हिन्दी सेवियों को है जो बिना किसी अपेक्षा के, बिना प्रचार किए हिन्दी को बढ़ावा देने में जुटे हुए है. इसलिए आशुतोष अग्रवाल को सलाम करने का मन है.यदि आपके मन में भी यही भाव जगे तो कृपया उनके इस यू-ट्यूब चैनल पर जाकर उनका हौसला बढाइये ताकि वो और अधिक ऊर्जा के साथ हिन्दी के विस्तार को एक नई दिशा दे सके.


प्रकाशन दिनांक : 08-11-2011
print

नवीनतम लेख

a summer camp was organised for teaching hindi in minsk city of belarus by alesia.
this is a poem written by rajendra sinh fariyadi on water
higher education in hindi, atal bihari vajpeyi, hindi university, hindi teaching, bhopal, mohan lal chipa